2.9 C
New York
Friday, December 8, 2023

महंगी होगी CNG-PNG! 40 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ रिकॉर्ड स्तर पर प्राकृतिक गैस की कीमत

CNG-PNG Price Hike: प्राकृतिक गैस (Natural Gas) की कीमत 40 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है. इससे सीएनजी और पीएनजी की कीमत में जल्द ही बढ़ोतरी संभव है. तेल मंत्रालय के पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण प्रकोष्ठ (PPAC) की तरफ से जारी आदेश के अनुसार, पुराने गैस क्षेत्रों से उत्पादित गैस के लिए भुगतान की जाने वाली दर को मौजूदा 6.1 डॉलर प्रति मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट (एमबीटीयू) से बढ़ाकर 8.57 डॉलर प्रति एमबीटीयू कर दिया गया है. इसी दर पर देश में उत्पादित गैस के लगभग दो तिहाई हिस्से की बिक्री होगी.Also Read – अच्छी खबर! CNG-PNG हुई सस्ती, महानगर गैस ने कीमतों में कटौती का किया ऐलान; जानें नई दर

Natural gas prices hiked by 40 per cent to record levels.
Price of gas from old fields of ONGC and Oil hiked to USD 8.57/MMBTU from USD 6.1: Petroleum Planning & Analysis Cell

— ANI (@ANI) September 30, 2022

Also Read – खोज रहे हैं CNG में भी जबरदस्त पॉवर देने वाली कार, टाटा की ये नई गाड़ी है जानदार, कीमत 8 लाख से भी कम

इस आदेश के मुताबिक, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और उसके भागीदार बीपी पीएलसी द्वारा केजी बेसिन में संचालित डी-6 ब्लॉक जैसे मुश्किल एवं नए क्षेत्रों से निकाली जाने वाली गैस की कीमत 9.92 डॉलर से बढ़ाकर 12.6 डॉलर प्रति इकाई कर दी गई है. अप्रैल 2019 के बाद से गैस की दरों में यह तीसरी वृद्धि होगी. Also Read – शुरू कर सकते हैं CNG पंप और EV चार्जिंग स्टेशन का बिजनेस, लाइसेंस फीस हुई कम

बेंचमार्क अंतरराष्ट्रीय कीमतों में मजबूती के कारण इनमें तेजी आई है. प्राकृतिक गैस उर्वरक बनाने के साथ बिजली पैदा करने के लिए एक प्रमुख कच्चा माल है. इसे सीएनजी में भी परिवर्तित किया जाता है और पाइप्ड नेचुरल गैस (PNG) यानी रसोई गैस के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है. दरों में भारी वृद्धि से सीएनजी और पीएनजी की कीमतों में बढोत्तरी होने की आशंका है, जो पहले से ही पिछले एक साल में 70 प्रतिशत से अधिक बढ़ चुकी हैं.

सरकार हर छह महीने यानी एक अप्रैल और एक अक्टूबर को गैस की कीमतें तय करती है. यह कीमतें अमेरिका, कनाडा और रूस जैसे गैस-अधिशेष देशों में एक साल में एक चौथाई के अंतराल के साथ प्रचलित दरों के आधार पर तय की जाती हैं. एक अक्टूबर से 31 मार्च की कीमत जुलाई 2021 से जून 2022 तक की औसत कीमत पर आधारित है. इस अवधि में वैश्विक स्तर पर दरें तेजी से बढ़ी हैं.

(इनपुट: भाषा)

Related Articles

Stay Connected

1,520FansLike
4,561FollowersFollow
0FollowersFollow

Latest Articles